RSS

मैडम मोरी मैं नहीं कोयला खायो

10 Sep

मैडम मोरी मैं नहीं कोयला खायो !

विपक्षी दल सब बैर पडे हैं, बरबस मुख लिपटायो !

चिट्ठी-विट्ठी इन बैरिन ने लिखी, मोहे विदेस पठायो !

मैं बालक बुद्धि को छोटो, मोहें सुबोध कांत फसायो !

हम तो कुछ बोलत ही नाहीं, सदा मौन रह जायो !

इसीलिए मन मोहन सिंह से मौन सिंह कहलायो !

लूट विपक्षी बैंक भर दीने, कालिख हमरे माथे लगायो !

हम तो कठपुतली हैं तुम्हरी, अंडर एचीवर कहलायो !

मैडम भोली बातें सुन मुस्काई, मनमोहन खींच गले लगायो !

मैडम मोरी मैं नहीं कोयला खायो !

 
Leave a comment

Posted by on September 10, 2012 in Uncategorized

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: