RSS

अग्निवेश ने पागल हाथी से की अन्‍ना की तुलना, ‘कपिल जी’ से की गई बातचीत लीक!

31 Aug

नई दिल्ली।।टीम अन्ना का हिस्सा माने जाने वाले स्वामी अग्निवेश क्या डबल गेम कर रहे थे ? क्या वह अंदर ही अंदर सरकार से मिले हुए थे ? यह सवाल उठा है एक विडियो से जिसमें कपिल नाम के किसी शख्स से फोन पर बात करते हुए स्वामी अग्निवेश को पागल और हाथी जैसा बताते दिखते हैं।

इंटरनेट पर डाला गया यह विडियो कई समाचार चैनलों पर भी दिखाया जा चुका है। विडियो में स्वामी अग्निवेश की कपिल नाम के शख्स से टीम अन्ना के आंदोलन पर बातचीत करते दिख रहे हैं। वह कहते हैं कि सरकार बहुत ज्यादा कमजोर नजर आ रही है।

आंदोलन की आलोचना करते हुए वह कहते हैं ,’ बहुत जरूरी है कपिलजी.. वरना ये तो पागल हो रहे हैं जैसे हाथी हो। ‘ अग्निवेश यह भी कहते हैं कि वह तो इस बात पर शर्मिंदा हैं कि सरकार कितनी कमजोर नजर आ रही है। अग्निवेश कहते हैं कि सरकार जितना झुक रही है उतना ही ये सर पर चढ़ते जा रहे हैं।

इस विडियो के सार्वजनिक होने के बाद कई तरह के सवाल पूछे जाने लगे हैं। यह सवाल किया जा रहा है कि क्या अग्निवेश केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल से बात कर रहे हैं ? क्या वह टीम अन्ना में रहते हुए सरकार से भी मिले हुए थे ?

टीम अन्ना ने मांगा जवाब
स्वामी अग्निवेश का यह विडियो सामने आने के बाद से टीम अन्ना गुस्से में है। स्वामी अग्निवेश की असल भूमिका को लेकर उठते सवालों पर उसने अग्निवेश से जवाब मांगा है। टीम अन्ना की अहम सदस्य किरन बेदी ने कहा कि हम यह देख कर स्तब्ध हैं।

उन्होंने सवाल किया कि आखिर यह कपिल कौन हैं ? बेदी ने अग्निवेश पर पूरी तरह से अनैतिक व्यवहार का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें जवाब देना चाहिए। हालांकि उन्होंने कहा कि जो कुछ हमने देखा है, उसके बाद कोई संदेह नहीं रह जाता है।

सिब्बल से बात नहीं कर रहा थाः अग्निवेश
हालांकि स्टार न्यूज से बात करते हुए अग्निवेश ने इस बात का खंडन किया कि वह कपिल सिब्बल से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा वह एक मुनिजी से बात कर रहे थे जिनका नाम कपिल है। उन्होंने यह भी कहा कि वह अन्ना के लिए पागल , हाथी या ऐसे किसी शब्द की कल्पना भी नहीं कर सकते।

उन्होंने कहा , वह एक निजी और अनौपचारिक बातचीत थी , लेकिन उनका मूल स्टैंड उस बातचीत में भी वही था , जो वह तमाम टीवी चैनलों पर लगातार दोहराते रहे हैं। वह स्टैंड यह था कि संसद की अपील के बाद ही अन्ना को अनशन तोड़ देना चाहिए था।

 
Leave a comment

Posted by on August 31, 2011 in Uncategorized

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: